गिरिराज-चालीसा

।।दोहा।।
बंदहुं वीणा वादिनी, धरि गणपति को ध्याना ।
महाशक्ति राधा सहित, कृष्ण करौ कल्याण ।।
सुमिरन करि सब देवगण, गुरु पितु बारम्बार ।।
बरनौ श्री गिरिराज यश, निज मति के अनुसार ।।
।।चौपाई।।
जय हो जय बंदित गिरिराजा । ब्रज मंडल के श्री महाराजा ।।
विष्णु रूप तुम हो अवतारी । सुंदरता पै जग बलिहारी ।।
स्वर्ण शिखर अति शोभा पामें । सुर मुनि गण दरशन कूं आमें ।।
शांत कंदरा स्वर्ग समाना । जहां तपस्वी धरते ध्याना ।।
द्रोणगिरि के तुम युवराजा । भक्तन के साधौ हौ काजा ।।
मुनि पुलस्त्य जी के मन भाए । जोर विनय कर तुम कूं लाए ।।
मुनिवर संघ जब ब्रज में आए । लखि ब्रजभूमि यहाँ ठहराए ।।
विष्णु धाम गौलोक सुहावन । यमुना गोवर्धन वृंदावन ।।
देख देव वन में ललचाए । बास करन बहु रूप बनाए ।।
कोउ बानर कोउ मृग के रूपा । कोउ वृक्ष कोउ लता स्वरूपा ।।
आनंद लें गोलोक धाम के । परम उपासक रूप नाम के ।।
द्वापर अंत भये अवतारी । कृष्णचंद्र आनंद मुरारी ।।
महिमा तुम्हारी कृष्ण बखानी । पूजा करिबे की मन ठानी ।।
ब्रजवासी सबके लिए बुलाई । गोवर्द्धन पूजा करवाई ।।
पूजन कूं व्यंजन बनवाए । ब्रजवासी घर घर ते लाए ।।
ग्वाल बाल मिलि पूजा कीनी । सहस भुजा तुमने कर लीनी ।।
स्वयं प्रकट हो कृष्ण पूजा में । मांग मांग के भोजन पामें ।।
लखि नर नारी मन हरषामें । जै जै जै गिरिवर गुण गामें ।।
देवराज मन में रिसियाए । नष्ट करन ब्रज मेघ बुलाए ।।
छांया कर ब्रज लियौ बचाई । एकउ बूंद न नीचे आई ।।
सात दिवस भई बरसा भारी । थके मेघ भारी जल धारी ।।
कृष्णचंद्र ने नख पै धारे । नमो नमो ब्रज के पखवारे ।।
करि अभिमान थके सुरसाई । क्षमा मांग पुनि अस्तुति गाई ।।
त्राहि माम् मैं शरण तिहारी । क्षमा करो प्रभु चूक हमारी ।।
बार बार बिनती अति कीनी । सात कोस परिकम्मा दीनी ।।
संग सुरभि ऎरावत लाए । हाथ जोड़कर भेंट गहाए ।।
अभय दान पा इंद्र सिहाए । करि प्रणाम निज लोक सिधाए ।।
जो यह कथा सुनैं चित्त लावैं । अंत समय सुरपति पद पावैं ।।
गोवर्द्धन है नाम तिहारौ । करते भक्तन कौ निस्तारौ ।।
जो नर तुम्हरे दर्शन पावें । तिनके दुख दूर ह्वै जावें ।।
कुण्डन में जो करें आचमन । धन्य धन्य वह मानव जीवन ।।
मानसी गंगा में जो नहावें । सीधे स्वर्ग लोग कूं जावें ।।
दूध चढ़ा जो भोग लगावै । आधि व्याधि तेहि पास न आवें ।।
जल फल तुलसी पत्र चढ़ावें । मन वांछित फल निश्चय पावें ।
जो नर देत दूध की धारा । भरौं रहे ताकौ भंडारा ।।
करें जागरण जो नर कोई । दुख दरिद्र भय ताहि न होई ।।
“ओम” शिलामय निज जन त्राता । भक्ति मुक्ति सरबस के दाता ।।
पुत्रहीन जो तुम कूं ध्यावें । ताकूं पुत्र प्राप्ति ह्वै जावें ।।
दंडौती परिकम्मा करहीं । ते सहजहि भवसागर तरहीं ।।
कलि में तुमसम देव न दूजा ।। सुर नर मुनि सब करते पूजा ।।
।।दोहा।।
जो यह चालीसा पढ़े, शुद्ध चित्त लाय ।
सत्य सत्य यह सत्य है, गिरिवर करैं सहाय ।
क्षमा करहुं अपराध मम, त्राहि माम् गिरिराज ।
श्याम बिहारी शरण में, गोवर्द्धन महाराज ।।