तुलसी दल का चयन | Choosing Right Tulasi Leaves

स्कन्द पुराण में कहा गया है कि जो हाथ पूजन के लिए तुलसी चुनते हैं, वे धन्य हैं –
तुलसीं ये विचिन्वन्ति धन्यास्ते करपल्लवा: ।
तुलसी के पत्तों को तोड़ने की सही विधि यह है कि तुलसी का एक-एक पत्ता न तोड़कर पत्तियों के साथ अग्रभाग को तोड़ना चाहिए क्योंकि तुलसी की मंजरी सब फूलों से बढ़कर मानी जाती है. मंजरी तोड़ते समय इस बात का ध्यान रखना है कि उसमें पत्तियाँ भी अवश्य हों.
श्रद्धा व भक्तिपूर्वक तुलसी के पौधे को बिना हिलाए, निम्नलिखित मंत्र द्वारा तुलसी के अग्रभाग को तोड़ें. इससे पूजा का फल लाख गुना अधिक प्राप्त होता है.