तुलसी दल तोड़ने का मंत्र

तुलस्यमृतजन्मासि सदा त्वं केशवप्रिया ।
चिनोमि केशवस्यार्थे वरदा भव शोभने ।।
त्वदंगसम्भवै: पत्रै: पूजयामि यथा हरिम्।
तथा कुरु पवित्रांगि ! कलौ मलविनाशिनी ।।