• अर्घ्यम्- निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को अर्घ्य समर्पित करें :-

third eye of lord shiva

• आचमनम्- निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को आचमन के लिये जल समर्पित करें :-

shiv hi guru

• पंचामृत स्नानम्- एक पात्र में दूध (कच्चा दूध), दही, घी, शहद और शर्करा मिला कर पंचामृत बनायें। निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को स्नान के लिये पंचामृत समर्पित करें

om namah shivay

• शुद्धोदक स्नानम्- निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को शुद्धोदक स्नान के लिये शुद्ध जल समर्पित करें :-

shiv vrat vidhi in hindi

• वस्त्रम् - निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को वस्त्र अर्पित करें :-

shivratri vrat vidhi in hindi

• यज्ञोपवीत - निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को यज्ञोपवीत अर्पित करें :-

mahashivratri vrat vidhi in hindi

• आचमनम्- निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को आचमन के लिये जल समर्पित करें :-

shivratri pujan vidhi in hindi

• गन्धम्- निम्न मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को सफेद चंदन अर्पित करें :-

mahashivratri pujan vidhi in hindi

• अक्षतम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को अक्ष त अर्पित करें :-

Puja method

• पुष्पम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को बिल्वपत्र तथा धतूरा का फूल अर्पित करें :-

Pujan material

• पुष्प:- निम्न मंत्रों के दवारा शिव जी को कनेर तथा कमल के फूल अर्पित करें:-
श्री भवाय नम:
श्री शर्वाय नम:
श्री रुद्राय नम:
श्री पशुपताय नम:
श्री उग्राय नम:
श्री महानाय नम:
श्री भीमाय नम:
श्री ईशानाय नम:

• धूपम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को धूप अर्पित करें :-

pujan saamagree

• दीपम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को दीप दिखायें :-

mahashivratri puja

• नैवेद्यम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को नैवेद्य अर्पित करें :-

shivratri puja

• फलम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को उपलब्ध ऋतुफल अर्पित करें :-

ऊँ भवाय नम:, ऋतुकालोद्भूत फलादि समर्पयामि ।

• आचमनम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को आचमन के लिये जल समर्पित करें :-

ऊँ मनोन्मनाय नम:, आचमनं समर्पयामि।

• ताम्बूलम्- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को ताम्बूल अर्पित करें :-

ऊँ शम्भवे नम:, ताम्बूलं समर्पयामि ।

• दक्षिणा- मंत्र का उच्चारण करते हुये शिवजी को यथाशक्ति दक्षिणा अर्पित करें :-

ऊँ शिवप्रियाय नम:, साधुपुण्यार्थे दक्षिणां समर्पयामि ।